Rishabh Pant की जान इस 1 करोड़ की कार की वजह से बच गई? क्या है खासियत?

टीम इंडिया के जाने-माने क्रिकेटर अपने घर जाने वक्त भयानक हादसे का शिकार हो गए खुद कार ड्राइव कर रहे ऋषभपंत को झाबकी आई और डिवाइडर से टकराने के बाद कार भयानक आग की चपेट में आ गई,


कोई और कार होती तो इतने में भयानक हादसे में ऋषभपंत नहीं बच पाते लेकिन करीब एक करोड़ कीमत थी जिस कार से वह सफर कर रहे थे,कहीं ना कहीं उसके सेफ्टी फीचर्स की वजह से उनकी जान बच गई।


ऋषभपंत अपनी मर्सिडीज कार खुद चला कर होमटाउन रुड़की जा रहे थे इसके दौरान उन्हें झपकी आए और उनकी कार डिवाइडर टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई, पंत ने खुद बताए कि विंडस्क्रीन तोड़कर बाहर आए इसके बाद कार में भीषण आग लग गई थी, हादसे के बाद ऋषभ पंत को देहरादून के मैक्स हॉस्पिटल मैं एडमिट कराया गया जहां उनकी मां भी साथ ह।

पंत को सर और घुटने में गंभीर चोटे आई हैं,उनका M.R.I. भी कराया गया है

इसके अलावा टीट और पैर के कुछ हिस्सों में चोटे आई हैं, पंत का यह एक्सीडेंट शुक्रवार सुबह करीब 5:30 रुड़की के पास मोहम्मदपुर ( जाट एरिया ) में हुआ।

पंत के यह मर्सिडीज कार में एडवांस सेफ्टी फीचर्स थे जिसके कारण उनकी जान बच गई. इस मर्सिडीज़ कार में इंटेलिजेंट ड्राइव, 6 एयरबैग, शेल्टरबेल्ट वार्निंग, स्पीड लिमिट क्रॉस करने पर बीप फैसिलिटी जैसे फीचर्स थे।


मर्सिडीज का यह मॉडल अब बंद हो चुका है बात करले कार की कीमत की तो वह 99.20 लाख,इस कार को फाइव स्टार सेफ्टी रेटिंग भी मिल चुकी है, इस कंपनी की कारों में Accident NavigationNight,view a sit . Blank sport monitoring,जैसे सेफ्टी फीचर्स होते हैं जो इसे एडवांस एंड सेफ कार बनाते हैं अपनी मजबूत बॉडी पार्ट्स के कारण यह कार्य सड़क हादसों में अपने यात्रियों की जान बचा लेती है क्योंकि जितना भयानक हादसा हुआ है दूसरी कोई हल्की कम कीमत वाली कार होती तो ऋषभपंत का बचपना मुश्किल होता. भले इस कार में आग लग गई हो लेकिन उसके बाद भी ऋषभपंत छोटे खाकर बाहर निकलने में कामयाब रहे और उनकी जान बच गई, अगर दूसरी कार होती तो टक्कर से कचुंबर बन जाता और आग ऐसी लगती कि बाहर निकलने का वक्त ही नहीं मिलता, छोटी रेल की कार उसी आग की लपटों में घिर जाती है यह महंगी कार हे नहीं उस वक्त पर पहुंचे बस ड्राइवर का भी ऋषभपंत को बचाने में अहम योगदान है।

हरियाणा रोडवेज के बस ड्राइवर सुशील कुमार कार के पास पहुंचे और उन्होंने ऋषभपंत को संभाला फिर पंत को एंबुलेंस को बुलाकर अस्पताल पहुंचाया।

कुल मिलाकर शुक्र रहा कि ऋषभपंत की जान बच गई अब वह अस्पताल में भर्ती हैं और सभी उनका जल्द ठीक हो जाने का प्रार्थना कर रहे हैं